न्यूज़क्लिक वेबसाइट पर हमला लोकतंत्र पर हमला

न्यूज़क्लिक वेबसाइट पर हमला लोकतंत्र पर हमला

आंदोलनों की आवाज बन कर उभरी न्यूज़क्लिक वेबसाइट के दफ्तर पर छापे का देशभर में विरोध हो रहा है। पटना में भी छापे के खिलाफ प्रतिरोध सभा हुई।

न्यूजक्लिक के दफ्तर पर छापे के खिलाफ पटना से प्रकाशित जनशक्ति साप्ताहिक और पटना के पत्रकारों ने सोमवार को प्रतिरोध सभा की। सभा में पत्रकार, मीडियाकर्मी, पत्रिकाओं के संपादक , सामाजिक कार्यकर्ता, संस्कृतिकर्मी इकट्ठा हुए। प्रतिरोध सभा में राकेश राज ने नंदिता हक्सर के लिखे लेख का पाठ किया।

जनशक्ति साप्ताहिक के वरिष्ठ पत्रकार प्रियरंजन ने प्रतिरोध सभा को संबोधित करते हुए कहा- हमें विरोध की और सशक्त आवाज उठानी होगी। पूर्व सांसद अली अनवर ने कहा-आज यहां अधिक स्वतंत्र पत्रकार बैठे हैं। अब यही मुख्यधारा के पत्रकार हैं।

नई पीढ़ी को जोड़ने के लिए युवा कांग्रेस की तीन योजनाएं

नौकरशाही डॉट कॉम के इर्शादुल हक ने कहा- आज नौजवान देश में प्रतिरोध के प्रतीक बन कर उभरे हैं। ट्विटर, फेसबुक जैसे सोशल मीडिया के माध्यम से विरोध ताकतवर हो रहा है। कल दिशा रवि को गिरफ्तार किया गया तो वह विरोध का प्रतीक बन गई। सोशल मीडिया, डिजिटल मीडिया आज अल्टरनेटिव मीडिया बनता जा रहा है। हमें उसकी ताक़त को बढ़ाना होगा।

महंगाई से कराहते लोग गुस्सा नहीं होते, ये है खास वजह

ईटीवी भारत के डॉ रंजीत ने कहा-आज 70 प्रतिशत मीडिया सोशल मीडिया, डिजिटल मीडिया है। 2024 तक यह नब्बे प्रतिशत हो जाएगा। मज़दूर पत्रिका के सतीश कुमार ने कहा- न्यूज़क्लिक पर हमला हम सब पर हमला है। प्रवीर पुरकायस्थ को इमरजेंसी में भी खींचकर जेल ले जाया गया था। अमर उजाला के पत्रकार आशीष झा ने कहा- आज ज्यादातर नौकरी करने वाले पत्रकार है।

सीपीआई के राज्य सचिव रामनरेश पांडे ने कहा-न्यूज़क्लिक पर हुआ हमला बेहद निंदनीय है। सरकार सच को दबाने का प्रयास कर रही है। इतनी निरंकुश तो इंदिरा गांधी भी नहीं थीं।

फार्म भरा तो शादी हुई, बाप बने तो परीक्षा, 7 साल बाद पिता-पुत्र को रिजल्ट का इंतजार

‘न्यूज़क्लिक’ से जुड़े पत्रकार अनिल अंशुमन ने कहा ” सरकार जो कंडीशन दे रही है उसे हम स्वीकार करते जा रहे हैं। वैकल्पिक मीडिया के लिए आवश्यक है कि ‘बोल के लब आजाद हैं तेरे’।
वरिष्ठ पत्रकार अमरनाथ झा ने बताया- न्यूज़क्लिक चूंकि किसान आंदोलन की अच्छी रिपोर्टिंग कर रहा था इस कारण इसे निशाना बनाया गया है।

प्रतिरोध सभा को यथार्थ के संपादक अजय कुमार सिन्हा, लाइव इंडिया न्यूज के मॉडरेटर विद्यासागर, आह्वान पत्रिका के विवेक, भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के अरुण मिश्रा, मैत्री शान्ति पत्रिका के संपादक रवींद्रनाथ राय, श्रमजीवी पत्रकार यूनियन के अमर कुमार , गोपाल कृष्ण, टाइम्स ऑफ इंडिया के वरिष्ठ पत्रकार अभय सिंह ने भी संबोधित किया। सभा का संचालन जयप्रकाश ने किया।

सभा में विश्वजीत कुमार, गालिब खान, कमलकिशोर, आकांक्षा, सौजन्य उपाध्याय, तारकेश्वर ओझा, पार्थ सरकार, जफर, सुनील सिंह, प्रभात सरसिज, इरफान अहमद फातमी, कुमुद सिंह, राधेश्याम, सरोज मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*