‘शताब्दी-सम्मान’से विभूषित किए जाएँगे देश के १०० विद्वान

शताब्दीसम्मानसे विभूषित किए जाएँगे देश के १०० विद्वान

साहित्य सम्मेलन में ९जून कोभव्य रूप में आयोजित होगा सम्मान समारोह 

अंडमान से कश्मीर तक के विद्वानों का पटना में लगेगा महाकुंभ,आयोजित होगा राष्ट्रीय कविसम्मेलन

पटना,२२ अप्रैल। आगामी ९ जून कोबिहार की गौरवशाली साहित्यिक संस्था बिहार हिन्दी साहित्य सम्मेलन मेंदेश के चुने हुए हिंदीसेवी विद्वानों को, ‘साहित्य सम्मेलन शताब्दीसम्मानसे विभूषित किया जाएगा। सम्मेलन के शतीवर्ष में आयोजित इस सम्मानसमारोह में अंडमान निकोबार से लेकर कश्मीर और कन्याकुमारी से लेकर उत्तरपूर्व के सभी प्रांतों से कमसेकम दो सबसे श्रेष्ठ चुने गए विद्वानों को यह सम्मान दिया जाएगा। सम्मानित सभी विद्वानों पर, ‘भारत के १०० मनीषी विद्वान‘ नामक एक पुस्तक का भी प्रकाशन होगा,जिसमें एक पृष्ठ परिचय और तीन पृष्ठ उनकी रचनाओं के लिए दिए जाएँगे। आयोजन के दूसरे खंड में राष्ट्रीय कविसम्मेलन‘ का भी आयोजन होगाजिसमें सम्मानित कविगण अपनी प्रतिनिधि रचनाओं का पाठ करेंगे।

यह जानकारीसोमवार की संध्यासम्मेलनसभागार में आयोजित एक संवाददातासम्मेलन मेंसाहित्य सम्मेलन के अध्यक्ष डा अनिल सुलभ ने दी। डा सुलभ ने बताया कि,बिहार हिन्दी साहित्य सम्मेलन की स्थापना के इस गौरवशाली शतीवर्ष में अनेक ऐतिहासिक महत्त्व के आयोजन होने जा रहे है,जो संपूर्ण भारतवर्ष के लिएदृष्टांत सिद्ध होंगे। उन्होंने कहा कि विगत २६ मार्च को देश की १०० विदुषियों का सम्मान कर,साहित्य सम्मेलन ने इतिहास रचा हैजिसकी संपूर्ण भारतवर्ष में हीं नहीविदेशों में भी व्यापक चर्चा हुई है। सम्मानित हुई विदुषियों पर, ‘भारत की १०० विदुषियाँनामक पुस्तक का प्रकाशन किया जा रहा हैजिसका लोकार्पण मई के तीसरे सप्ताह में किया जाएगा। अगस्त में देश के १०० युवा साहित्यकारों को भी शताब्दीसम्मान से विभूषित किया जाएगा,जिनमें युवतियाँ भी सम्मिलित होंगी। इस समारोह में भी प्रत्येक प्रांत से कमसेकम दो व्यक्तियों को सूची में अवश्य स्थान दिया जाएगा। इन पर भी देश के १०० युवा साहित्यकार‘ नामक पुस्तक का प्रकाशन किया जाएगा।

डा सुलभ ने कहा कि विद्वानों से,आगामी ३० अप्रैल तक संस्तुतियाँ मँगाई गई है,जिसमें नामित विद्वान का विस्तृत परिचयचित्र और ५ प्रतिनिधि रचनाएँ संलग्न करने का आग्रह किया गया है। अबतक अनेक सुख्यात विद्वानों की प्रविष्टियाँ प्राप्त हो चुकी हैं। मई के प्रथम सप्ताह मेंप्राप्त संस्तुतियों में से श्रेष्ठ १०० का चयन किया जाएगा।

संवाददातासम्मेलन मेंसाहित्य सम्मेलन के उपाध्यक्ष नृपेंद्रनाथ गुप्तडा शंकर प्रसादडा कल्याणी कुसुम सिंहसाहित्य मंत्री डा भूपेन्द्र कलसी,योगेन्द्र प्रसाद मिश्रराज कुमार प्रेमीआचार्य आनंद किशोर शास्त्रीडा मेहता नगेंद्र सिंहडा लक्ष्मी सिंहडा पल्लवी विश्वासडा पुष्पा जमुआरडा विनय विष्णुपुरीडा सुलक्ष्मी कुमारीडा शालिनी पाण्डेयडा नागेश्वर यादवकृष्ण रंजन सिंहश्रीकांत सत्यदर्शीडा अमरनाथ प्रसादपं गणेश झानेहाल कुमार सिंह निर्मलआदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*