शिवसेना के अंदर बगावत, विधायकों ने की आपस में मारपीट

 शिवसेना के अंदर बगावत, विधायकों ने की आपस में मारपीट

 

महाराष्ट्र में सरकार गठन के लिये शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे काफी मशक्कत कर रहे हैं, लेकिन इन सबके बीच पार्टी में सबकुछ ठीक नजर नहीं आ रहा  है. रिपोर्ट के अनुसार विधायकों के बीच गाली-गलौच और हाथापाई की नौबत आ गई.

शिवसेना के अन्दर बगावत, विधायकों ने की आपस में मारपीट

 

 

टाइम्स नाऊ की रिपोर्ट के अनुसार होटल में रखे गये विधायकों ने उद्धव ठाकरे पर अपने-अपने क्षेत्र में जाने देने के लिये दबाव बनाया है.

 

फायदा सिर्फ ठाकरे परिवार को

 

महाराष्ट्र (Maharastra) में सरकार बनाने को लेकर कवायद तेज़ हो गई है. इस बीच विधायकों में आपसी टकराव और मतभेद की खबर आ रही है, जिसमे  सीएम पद को लेकर ठाकरे परिवार के फैसले पर कुछ विधायकों ने सवाल उठाये थे. जिसके बाद होटल में मौजूद विधायकों के बीच झड़प और आपसी मतभेद की खबर आई.

 

 

खबर सुनते ही उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे तुरंत मौके पर पहुंचे. कुछ देर बाद शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे भी होटल आ गये. दोनों ने विधायकों को समझा-बुझाकर मामला शांत करवाया.

 

 

 

 

भाजपा कर्नाटक में कर रही सत्ता का दुरूपयोग : शिवसेना

रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि सीएम पद को लेकर ठाकरे परिवार के फैसले पर कुछ विधायकों ने सवाल उठाये थे और कहा था कि पूरी पार्टी को इस तरह से  क्यूँ रखा गया है. विधायकों ने पूछा कि एक पद जिससे सिर्फ ठाकरे परिवार को फायदा मिलेगा, उसके लिये पूरी पार्टी को क्यों ऐसे रखा जा रहा है.

 

 

 

विधायकों ने पूछे सवाल

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि एनसीपी चीफ शरद पवार से उद्धव ठाकरे की मुलाकात को लेकर भी विधायक खुश नहीं हैं.

 

गडकरी पहुंचे महाराष्ट्र, भाजपा से डरी शिवसेना

एक विधायक ने तो शिवसेना प्रमुख को चेतावनी दे दी है  कि शरद पवार कभी भी उन्हें सत्ता पर नियंत्रण करने नहीं देंगे. विधायकों ने कथित तौर पर उद्धव ठाकरे से ये भी पूछा कि वोटरों को वो कैसे बताएंगे कि क्यों उन्होने समझौता कर लिया, जिनके खिलाफ चुनाव लड़े, उसी का दामन थाम लिया.

 

 

 

 

सीएम की कुर्सी को लेकर बवाल

आपको बता दें कि विधानसभा चुनाव से पहले शिवसेना-बीजेपी ने गठबंधन कर चुनाव लड़ा था, लेकिन नतीजे के बाद शिवसेना सीएम की कुर्सी चाहती थी, इसी मुद्दे को लेकर दोनों ने राहें अलग कर ली, शिवसेना एनसीपी और कांग्रेस की मदद से सरकार बनाने की जुगत में लगी हुई है, जिस पर कुछ विधायकों ने सवाल खड़े किये हैं, शिवसेना को बिखराव का डर है इसलिये विधायकों को होटल में रखा गया है.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*