ये गुजरात नहीं, झारखंड है, अंकिता के हत्यारे को न माला, न मिठाई

ये गुजरात नहीं, झारखंड है, अंकिता के हत्यारे को न माला, न मिठाई

दुमका में अंकिता सिंह को जिंदा जलानेवाला शाहरुख गिरफ्तार। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में होगी। कड़ी से कड़ी सजा दिलाएंगे।

झारखंड के दुमका में 19 साल की अंकिता सिंह को जिंदा जला देनेवाला हत्यारा शाहरूख गिरफ्तार कर लिया गया है। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि हत्यारे को कड़ी से कड़ी सजा दिलाएंगे। जल्द फैसले के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई होगी। मुख्यमंत्री के निर्देश पर दुमका के डीसी ने अंकिता के परिजनों को तत्काल 10 लाख रुपए की सहायता दी। इससे पहले मुख्यमंत्री ने कहा-अंकिता बिटिया को भावभीनी श्रद्धांजलि। अंकिता के परिजनों को रु 10 लाख की सहायता राशि के साथ इस घृणित घटना का फ़ास्ट ट्रैक से निष्पादन हेतु निर्देश दिया है। पुलिस महानिदेशक को भी उक्त मामले में एडीजी रैंक अधिकारी द्वारा अनुसंधान की प्रगति पर शीघ्र रिपोर्ट देने हेतु निर्देश दिया है।

हेमंत सरकार में मंत्री मिथिलेश कुमार ठाकुर ने कहा-अपराधी की ना तो कोई जाति होती है और ना ही कोई धर्म। वह क्रूर, अधर्मी, पतित और निकृष्ट होता है। बेटी अंकिता का हत्यारा जल्द फाँसी के फंदे के क़रीब हो….ऐसा सभी क़ानून सम्मत प्रयास हमारी सरकार करेगी।

अंकिता की मौत के बाद झारखंड में राजनीति भी तेज हो गई है। भाजपा नेता बाबू लाल मरांडी ने दुमका के एक डीएसपी नूर मुस्तफा पर हत्यारे को बचाने का आरोप लगाया। दुमका में बाजार बंद हो गया। वहीं भाजपा प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने कांग्रेस पर तुष्टिकरण की राजनीति करने का आरोप लगाया।

हेमंत सरकार की तत्परता, हत्या के आरोपी की गिरफ्तारी, फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई की घोषणा के बाद मामले को सांप्रदायिक रंग देना शायद आसान न होगा। झारखंड मुक्ति मोर्चा समर्थक कह रहे हैं कि यह गुजरात नहीं है। आज झारखंड में हेमंत सोरेन की सरकार है। यहां न तो हत्यारे को माला पहनाई जाती है और न ही मिठाई खिलाई जाती है। उसे कड़ी से कड़ी सजा मिलेगी।

इस बीच भाजपा पर एक आदिवासी युवती सुनीता का उत्पीड़न करने का आरोप लगा है। आदिवासी डॉट कॉम ने लिखा है-आदिवासी समाज की एक बेटी सुनीता को भाजपा की एक नेत्री सीमा पात्रा ने लगातार आठ सालों तक अमानवीय यातनाएं दीं। इस युवती को दिव्यांग बना दिया। मुख्यमंत्री @HemantSorenJMM जी, सुनीता को न्याय चाहिए। अभी तक अपराधी आजाद क्यों है?

इस खबर के सामने आने के बाद संभव है भाजपा नेता पर आदिवासी युवती का उत्पीड़न करने के खिलाफ कार्रवाई हो।

JDU का जय शाह पर तंज, देश का खाएंगे, पर तिरंगा नहीं उठाएंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*