हनुमान चालीसा पड़ा भारी, सांसद पत्नी व पति का ठूसा जेल

हनुमान चालीसा पड़ा भारी, सांसद पत्नी व पति का ठूसा जेल

आजान पर शुरू हुई सियासत हनुमान ( Hanuman Chalisa) चालीसा तक पहुंचते ही महाराष्ट्र के हनुमान भक्त विधायक व उनकी सांसद पत्नी पर भारी पड़ा है.

शिवसेना प्रमुख व महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्भव ठाकर के घर मातोश्री के सामने हनुमान चालीसा पढ़ने की धमकी से शिव सैनिक आगबबूला हो गये.

दर असल निर्दलीय विधायक रवि राणा ( Ravi Rana) और उनकी पत्नी नवनीत राणा (Navveet Rana) ने यह धमकी दी थी कि वे मातोश्री जा कर हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे. इतने सुनते ही शिव सैनिकों ने हजारों की भीड़ के साथ उनके घर के सामने प्रदर्शन किया.

वीरकुंवर सिंह की ये कैसी जंयती, पौत्रवधू को घर में कैद किया

उधर संजय राउत ने विरोधियों को सीधी चेतावनी दे दी है। शनिवार को उन्होंने कहा कि शिवसेना से दूर रहें। खास बात है कि वाडनेरा से निर्दलीय विधायक रवि राणा और उनकी पत्नि सांसद नवनीत राणा ने राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के निजी आवास ‘मातोश्री’ के बाहर हनुमान चालीसा का पाठ करने की योजना बनाई थी।

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार, राउत ने कहा कि शिवसेना और मातोश्री से दूर रहो या परिणाम भुगतो। उन्होंने कहा, ‘मैं यह कहना चाहता हूं कि शिवसेना और मातोश्री से न उलझें, आपको 20 फीट गहरा गाड़ दिया जाएगा। मैं यह कैमरा के सामने कह रहा हूं, शिवसेना के सब्र का इम्तिहान मत लो।’ उन्होंने कहा कि दूसरे सियासी दलों की तरफ से राणा का इस्तेमाल किया जा रहा है।
शनिवार को राणा दंपति के घर के बाहर शिवसेना कार्यकर्ताओं ने जमकर विरोध प्रदर्शन किया। नेता दंपति ने मातोश्री के बाहर हनुमान चालीसा का पाठ करने का ऐलान किया था। वहीं, मुंबई पुलिस ने कार्रवाई करते हुए शनिवार को ही नवनीत और रवि राणा को गिरफ्तार कर लिया।

वकील ने गिरफ्तारी को बताया गैरकानूनीराणा दंपति के वकील रिजवान मर्चेंट ने गिरफ्तारी को गैरकानूनी बताया है। उन्होंने कहा, ‘गिरफ्तारी गैर कानूनी और असंवैधानिक है क्योंकि दोनों जनसेवक (सांसद और विधायक) हैं। उन्हें गिरफ्तार करने से पहले स्पीकर की अनुमति लेना चाहिए थी, लेकिन कोई इजाजत नहीं ली गई। सुप्रीम कोर्ट के अनुसार, मामले 14 दिनों के भीतर धारा 41ए के तहत नोटिस दिया जाना चाहिए, जो नहीं दिया गया।’
उन्होंने कहा कि अगर महाराष्ट्र सरकार नवनीत और रवि राणा को रिहा नहीं करती है, तो उनकी रिहाई के आदेश अदालत के जरिए हासिल किए जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*