कल तक जगदा बाबू की तारीफ, अब भेज रहे मानसिक अस्पताल

कल तक जगदा बाबू की तारीफ, अब भेज रहे मानसिक अस्पताल

हाल तक भाजपा सांसद सुशील मोदी राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद की तारीफ के पुल बांध रहे थे। अब कह रहे उनका दिमाग खराब। राजद ने क्या कहा?

आप ऐसे व्यक्ति को जानते होंगे, जो आज किसी के तारीफ के पुल बांध रहा है और कल उसे दुश्मन घोषित कर देता है। ऐसे व्यक्ति को आप क्या नाम देते हैं?

भाजपा सांसद सुशील कुमार मोदी ने 9 जुलाई को कहा कि राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह बहुत ईमानदार, अनुशासनप्रिय और भले आदमी हैं। राजद में उनके अपमान से सुशील मोदी सख्त नाराज थे। उनका ट्वीट आज भी आप देख सकते हैं।

जो भाजपा सांसद जगदानंद की तारीफ के पुल बांध रहे थे, उन्होंने ही अब कहा कि जगदाबाबू की मानसिक स्थिति ठीक नहीं है। दरअसल, जगदानंद ने कल कहा कि आरएसएस भारतीय तालिबान है। उन्होंने संघ पर धार्मिक उन्माद फैलाने का आरोप लगाते हुए यह बात कही।

जगदानंद सिंह के प्रति भाजपा और जदयू के नेता कई बार प्रेम दिखाते रहे हैं। उन्हें राजद छोड़ने की सलाह भी देते रहे हैं। अब जगदानंद सिंह ने संघ को तालिबान बताकर अपने और भाजपा के बीच की विभाजन रेखा को पत्थर की लकीर बना दिया।

राजद प्रवक्ता चितरंजन गगन ने कहा-राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानन्द के बारे में भाजपा नेता सुशील मोदी द्वारा दिया गया बयान, उनके अपने टूटे सपने का ही दास्तान बयां करती है। सुशील मोदी अब सरकार और पार्टी दोनों जगह अप्रासंगिक हो चुके हैं। कभी मुख्यमंत्री बनने का सपना देखा करते थे। किंतु अब सोच भी नहीं सकते, क्योंकि उन्होंने राजद और लालू परिवार के खिलाफ साजिश और झूठी बयानबाजी के अलावा कोई भी काम नहीं किया है जिससे भाजपा और एनडीए को कोई लाभ मिले। मिडिया में बने रहने के लिए अनर्गल और अमर्यादित बयान देना इनकी मजबूरी हो गई है। इसलिए नायक न सही खलनायकी में ही जगह तलाश रहे हैं।

ललन सिंह की असली परीक्षा आगे है, ये हैं दो सवाल

राजद प्रवक्ता ने आगे कहा- राजद प्रदेश अध्यक्ष जगदानन्द सिंह के बारे में कुछ कहने के पहले सुशील मोदी को यह याद कर लेना चाहिए कि सत्ता और पद के लिए जगदानन्द सिंह ने समाजवाद और सामाजिक न्याय के सिद्धांतों से कभी समझौता नहीं किया। इसके लिए भले ही उन्हें अपने बेटे के खिलाफ ही क्यों न मैदान में उतरना पड़ा हो। आज की राजनीति में ऐसा दूसरा उदाहरण खोजना मुश्किल है।

बंट गया सोशल मीडिया, नसीरुद्दीन के वीडियो पर छिड़ी बहस

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*