नीतीश के तकियाकलाम का रस ले-लेकर तेजस्वी ने किया बखान

नीतीश के तकियाकलाम का रस ले-लेकर तेजस्वी ने किया बखान

पिछले दिनों लालू प्रसाद ने कहा था, हमसे भी आगे निकल गया तेजस्वी। उनकी बात उपचुनाव में सच होती दिखी। तेजस्वी ने नए अंदाज में लोगों को हंसाया।

दिन में सभा और रात में पार्टी कार्यकर्ताओं से बात करते तेजस्वी यादव।

बिहार में दो सीटों पर हो रहे उपचुनाव में तेजस्वी यादव एक नए अवतार के रूप में दिखे हैं। तेजस्वी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के एक तकियाकलाम पर खूब रस ले-लेकर श्रोताओं को हंसाया। तकियाकलाम का अर्थ होता है, वह शब्द जिसे कोई हर बात के बीच में बोलता है। जैसे कुछ लोग कहते हैं- ..है जो कि.., ..जो है सो की..आदि। आपने ध्यान दिया होगा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बार-बार एक बात कहते हैं- हम तो काम करते रहते हैं। बेकार की बात पर ध्यान नहीं देते।

तेजस्वी यादव ने अपनी चुनावी सभाओं में मुख्यमंत्री के हम तो काम करते रहते हैं पर हंसा-हंसा कर खूब वार किया।

तेजस्वी ने तारापुर की सभा में कहा-चोर दरवाजे वाले मुख्यमंत्री आएंगे, बोलेंगे भई हम तो काम करते रहते हैं। काम करते रहते हैं..काम करते रहते हैं। हम बेकार की बात नहीं करते। यह उन्होंने इस अंदाज में कहा कि सभा में हंसी के फव्वारे फूट पड़े।

तेजस्वी यहीं नहीं रुके। कहा, वे नीतीश कुमार की नकल करते हुए बोले, पहले कुछ था…। था को लंबा करके कहा कि फिर सभा में हंसी। उनसे कह दीजिएगा कि ब्लॉक लालू जी ने ही बनवाया था। उन्हें याद दिला दीजिएगा कि पहले अफसरशाही इतनी नहीं थी। घूसखोरी इतनी नहीं थी।

तेजस्वी ने जनसंपर्क के दौरान कहीं भी रास्ते में रुक कर लोगों से बात की। एक सब्जीवाले को देखकर रुक गए। उससे बात की। उपचुनाव में वे किसी भी अन्य नेता से कहीं बहुत अधिक भीड़ जुटानेवाले साबित हुए हैं। तेजस्वी की बात तुरत प्रतिध्वनित हुई। राजद कटिहार ने ट्वीट किया-नीतीश जी से पूछिएगा : पहले ब्लॉक-थाना में रिकॉर्डतोड़ घूसखोरी था? रिकॉर्डतोड़ बेरोज़गारी था?रिकॉर्डतोड़ महंगाई था? स्वास्थ्य-शिक्षा व्यवस्था रिकॉर्डतोड़ जर्जर था?

अखिलेश ने पीएम को ऐसा घेरा, कोई जवाब देने नहीं आ रहा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*