सुनो बिहार, पहली बार आक्रामक नहीं, आहत क्यों दिखे तेजस्वी

सुनो बिहार, पहली बार आक्रामक नहीं, आहत क्यों दिखे तेजस्वी

तेजस्वी यादव ने आज बहुत बड़ी बात कही। किसी विधायक को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के गृह विभाग से जुड़ा सवाल करने की इजाजत नहीं दी जा रही। पीड़िता भी मौजूद।

कुमार अनिल

सुनो बिहार, विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने आज प्रदेश की जनता के सामने बहुत बड़ी बात कही। उन्होंने आज एक विशेष संवाददाता सम्मेलन बुलाया। उनके साथ पूर्णिया जिला परिषद की सदस्य अनुलिका सिंह भी मौजूद थीं। अनुलिका के पति और पूर्व जिला परिषद सदस्य रिंटू सिंह की पिछले महीने गोली मार कर हत्या कर दी गई थी।

तेजस्वी यादव ने कहा कि पिछले दो सत्रों से किसी विधायक को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के अधीन गृह विभाग और सामान्य प्रशासन विभाग से जुड़ा सवाल पूछने की इजाजत नहीं दी जा रही। इस सत्र में भी राजद ने पूर्णिया में रिंटू सिंह की हत्या में आरोपित मंत्री लेसी सिंह और उनके भतीजे की अबतक गिरफ्तारी नहीं होने पर सदन में सवाल पूछा था, लेकिन उस सवाल को सदन के पटल पर आने ही नहीं दिया गया।

यह लोकतंत्र के लिए खतरनाक संकेत है। इसका अर्थ हुआ कि सत्ता से जुड़े व्यक्ति या रसूखदार व्यक्ति के अपराध पर कार्रवाई नहीं होगी।

तेजस्वी यादव आज आक्रामक नहीं, आहत भरे शब्दों में बोल रहे थे। उन्होंने एफआईआर के शब्द पढ़कर सुनाए, जिसमें साफ लिखा है कि मंत्री लेसी सिंह और उनके भतीजे के खिलाफ साक्ष्य मौजूद हैं। उस साक्ष्य को सीसीटीवी फुटेज के रूप में पूरे बिहार ने देखा, लेकिन सिर्फ मुख्यमंत्री और उनके गृह विभाग ने नहीं देखा।

तेजस्वी यादव ने आहत स्वर में कहा कि हम जब भी सवाल उठाते हैं, तो उल्टा हमारी ही, विपक्ष की ही साजिश बता दिया जाता है। इसलिए हम ज्यादा नहीं बोलेंगे। सोचो बिहार, अगर विपक्ष के नेता और राज्य के सबसे दल के नेता की आवाज पर कार्रवाई नहीं हो रही, हत्यारों को गिरफ्तार नहीं किया जा रहा, तो किसान-मजदूर, बेरोजगार की आवाज का क्या असर होगा, समझा जा सकता है।

तेजस्यवी यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर सीधा आरोप लगाया। कहा, लेसी सिंह और उनके भतीजे को मुख्यमंत्री का संरक्षण मिला है, इसलिए पुलिस अपना काम नहीं कर पा रही। तेजस्वी ने नीतीश कुमार के उस नारे की याद दिलाई जिसमें वे कहते हैं कि सरकार किसी को फंसाती नहीं, किसी को बचाती नहीं। तेजस्वी यादव ने कहा कि रिंटू सिंह को गोली मारने के बाद हत्यारा दुबारा पहुंचता है कि मरा या नहीं। तेजस्वी ने आश्चर्य जताते हुए दो बार कहा- इतना कॉन्फिडेंस! इतना कॉन्फिडेंस!

स्व. रिंटू सिंह की पत्नी अनुलिका सिंह ने कहा कि उन्हें न्याय चाहिए। लेसी सिंह और उनके भतीजे की गिरफ्तारी हो।

बिहार में डबल इंजन की सरकार है। लखीमपुर कांड में मोदी सरकार ने केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी को अब तक नहीं हटाया, बिहार में लेसी सिंह पर कोई कार्रवाई नहीं।

जातीय जनगणना : नीतीश से मिले तेजस्वी, एनडीए में डाली फूट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*