बिहार में डीजीपी की नहीं सुनती है पुलिस, थाना स्‍तर पर होती है लापरवाही

आये दिन बिहार में बढ़ते अपराध से राज्‍य के डीजीपी के एस द्विवेदी काफी खफा हैं। उन्‍होंने कहा कि थाने स्‍तर पर लापरवाही की वजह से अपराध पर लगाम नहीं लग पा रहा है। डीजीपी ने बरते 9 महीनों में दूसरी बार अपनी नाराजगी जाहिर की। साथ ही डीजीपी ने भी माना है कि बिहार में हो रही 60 फीसदी हत्‍या के लिए जमीन विवाद को लेकर होती है।

Dgp bihar

नौकरशाही डेस्क

डीजीपी ने अपनी नाराजगी का इजहार करते हुए राज्‍य के सभी एसएसपी,डीएसपी, कमांडेंट समेत कई अधिकारियों को पत्र लिखा। पत्र के अनुसार, ‘थाना स्तर पर अपराध की रोक-थाम की ओर कम ध्यान दिया जाता है। यदि अपराध की रोकथाम की दिशा में थोड़ी भी कार्रवाई की जाए तो अपराध में बहुत बड़ी कमी आएगी और पब्लिक परसेप्शन भी सुधरेगी’

ये भी पढ़े : ट्रिपल तलाक पर जदयू को सरकार का हस्‍तक्षेप मंजूर नहीं

डीजीपी केएस द्विवेदी ने कहा कि पूर्व मेयर समीर हत्याकांड भी जमीन कारोबार के कारण हुआ है। उन्होंने मीडिया के माध्यम से लोगों से अपील करते हुए कहा कि अधिक मात्रा में कैश लेकर निकलने से पहले पुलिस की मदद लें। पुलिस गंतव्य स्थान तक पहुंचाएगी।

ये भी पढ़ें : रोमांस के किंग शाहरुख खान ने पटना में कर दी ऐसी बात, जान कर रह जाएंगे दंग

डीजीपी ने ये भी कहा कि रात छोड़िए,दिन में भी पुलिस गस्ती नहीं करती। इससे अपराधी वारदात को अंजाम देकर फरार हो जा रहे हैं। उन्होंने अपने लिखे पत्र के जरिये अफसरों को सही से ड्यूटी करने और कानून का राज बहाल करने का आदेश दिया है।

ये भी पढ़ें : नीति आयोग की दूसरी डेल्टा रैंकिंग में औरंगाबाद शामिल, जमुई बना फ़ास्ट मूवर्स

साथ में उन्‍होंने ये भी जोड़ा है कि अपराध में कमी तो आयी है,लेकिन अपराधियों के मनोबल में नहीं। उनके मन में यह बैठ गया है कि अपराध कर वे आराम से फरार हो जाएंगे। अपराध के ग्राफ में कमी आई है, लेकिन हत्या और कैश लूट की घटनाएं बढ़ी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*