माँ विजया ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया उद्घाटन, 8 हज़ार से अधिक साधिकाएँ व साधक ले रहे हैं भाग

गगनभेदी जयघोष के साथ महात्मा सुशील का दो दिवसीय महानिर्वाण महोत्सव हुआ आरंभ

पटना२३ अप्रैल। अन्तर्राष्ट्रीय इस्सयोग समाज के संस्थापक एवं सूक्ष्म आध्यात्मिक साधना पद्धति इस्सयोग‘ के प्रवर्त्तक ब्रह्मलीन सदगुरुदेव महात्मा सुशील का दो दिवसीय १६वाँ महानिर्वाण महोत्सवहज़ारों मुख से एक स्वर में हुए गगनभेदी जयघोष के साथआज आरंभ हो गया। कंकड़बाग हाउसिंग कौलोनी स्थित संस्था के मुख्यालय गुरुधाम‘ में आज तीसरे पहर ढाई बजेसंस्था की अध्यक्ष सद्गुरुमाता माँ विजया जी के निर्देश पर संस्था के उपाध्यक्ष पूज्य बड़े भैया श्रीश्री संजय कुमार ने मंगल दीप प्रज्ज्वलित कर महोत्सव का उद्घाटन किया।

उद्घाटन समारोह में संस्था के सचिव के एस वर्मा तथा शिवम् झा ने सद्ग़ुरु एवं गुरुमाँ की मूर्तियों पर माल्यार्पण किया। एल पी साहू मामाजी‘ ने दोनों मूर्तियों पर रेशमी चादर अर्पण किया। इसके पश्चात आधे घंटे की सामूहिक आह्वान साधना‘ की गईजिसके साथ हीं १६ घंटे की अखंड सामूहिक साधना और संकीर्तन आरंभ हुआ। इस अवसर पर संस्था की त्रैमासिक पत्रिका इस्सयोग संदेश‘ के महानिर्वाणमहोत्सव विशेषांक का लोकार्पण प्रभात कुमार द्वारा किया गया। पूर्ण श्रद्धा और भक्ति के साथसमर्पण के भाव से हज़ारों साधकसाधिकाओं ने अपने परम आराध्य ब्रह्मलीन सदगुरुदेव के चरणों में अपनी मौन श्रद्धांजलि अर्पित की।

१६ घंटे के अविराम संकीर्तन का आरंभ प्रणव गुप्ता ने गणेशवंदना‘ से किया। इसके पश्चात सद्ग़ुरु और गुरुमाँ की वंदना के साथ भजनों की अविराम मनकाएँचित्ताकर्षक मोतियों की भाँति लड़ियों में पिरोयी जा रही है। यह क्रम अगली सुबह२४ अप्रैल कोप्रातः साधे सात बजे तक जारी रहेगा। और इस प्रकार १६ घंटे की यह आराधना१६वें महानिर्वाण महोत्सव पर सद्ग़ुरु के चरणों को समर्पित होगी।

संस्था की संयुक्त सचिव सरोज गुटगुटिया के अनुसारदो दिनों के इस उत्सव में संस्था के संयुक्त सचिव उमेश कुमारसंगीता झाडा अनिल सुलभसंदीप गुप्तानीना दूबे गुप्ताश्रीप्रकाश सिंहए के साहूडा जेठानंद सोलंकीडा द्राशनिका पटेलदुर्गा दास पंडायुगल किशोर प्रसादडा सुंदर राजनममता जमुआरकपिलेश्वर मंडलवंदना वर्मादीनानाथ शास्त्रीमनोज राजराकेश श्रीवास्तवसुमन सुहासरियाअजीत पटनायकरवींद्र कुमारअजय पाण्डेयडा के राजा रमनतथा योगेन्द्र प्रसाद समेत अमेरिकाइंगलैडऔस्ट्रेलिया,सिंगापुरथाईलैंड तथा दुबई समेत दुनिया भर से आठ हज़ार से अधिक साधकगण भाग ले रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*