प्रियंका का लड़की हूं वीडियो वायरल, संदेश यूपी तक सीमित नहीं

प्रियंका का लड़की हूं वीडियो वायरल, संदेश यूपी तक सीमित नहीं

प्रियंका गांधी ने मैं लड़की हूं… वीडियो जारी किया। अब तक लाखों लोग देख चुके। वीडियो में नारी शक्ति के बजाय लड़की पर जोर है। ऐसा क्यों?

कुमार अनिल

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के मैं लड़की हूं, लड़ सकती हूं का वीडियो जारी जारी करते ही वायरल हो गया। वीडियो की काफी सराहना हो रही है। वीडियो यूपी चुनाव को ध्यान में रखकर जारी किया गया है, लेकिन इसका संदेश यूपी तक सीमित नहीं है। यह देश की लड़की की कहानी है, जिसमें उसका संघर्ष भी है, उसकी काबिलियत भी है और उसकी कामयाबी भी है। निशाने पर योगी ही नहीं, 2024 में मोदी भी है।

वीडियो का बैकग्राउंड म्यूजिक कमाल का है। दक्षिण भारतीय शैली का म्यूजिक इस तरह का भाव पैदा करता है, जैसे संघर्ष छिड़ने वाला हो। प्रियंका गांधी के ट्वीट में भी यूपी का जिक्र नहीं है। उन्होंने थीम सॉन्ग को नई राजनीति की शुरुआत कहा है। उन्होंने ट्वीट किया-लड़की हूं, लड़ सकती हूं’ बदलाव की आवाज है, एक नई राजनीति की शुरुआत है। लड़की हूं लड़ सकती हूं मैं कुछ भी कर सकती हूं…।

वीडियो में धार्मिक प्रतीकों का उपयोग बहुत कम है। एक बार महिषासुर मर्दिनी का जिक्र है, जो देवी दुर्गा को कहा जाता है। गीत लड़की की ही आवाज में है। शुरू के कुछ शब्दों को छोड़ दों, तो गीत के बोल बोलचाल के शब्दों से बने हैं। पहाड़ तो क्या, चांद को भी लांघ सकती हूं..सरहद पे भी लड़ सकती है। गीत में खेल, शिक्षा, विज्ञान, उद्योग, कृषि हर कार्य में दक्ष लड़की को दिखाया गया है। वीडियो में नारी शक्ति से ज्यादा लड़की-शक्ति पर जोर है।

प्रियंका गांधी ने इसे बदलाव की नई राजनीति कहा है। वीडियो यूपी चुनाव की तैयारी के बीच जारी किया गया है, इसलिए इसका तात्कालिक उपयोग तो यहां दिखता है, लेकिन निशाने पर सिर्फ यूपी चुनाव और योगी नहीं हैं, बल्कि मोदी और 2024 लोकसभा चुनाव है। यह थीम सॉन्ग देशभर की लड़कियों को आकर्षित करेगा। उन्हें लगेगा कि कोई तो है, जो राजनीति में लड़कियों की शक्ति, क्षमता को आगे बढ़ाने, मौका देने की बात कर रहा या रही है।

शुरू में जब प्रियंका गांधी ने यूपी चुनाव में 40 फीसदी महिलाओं को टिकट देने की घोषणा की, तो इसे चुनावी पहल ही माना गया। स्कूटी देने की घोषणा से भी यही लगा। लेकिन प्रियंका गांधी ने जिस तरह बुंदेलखंड में और अन्य स्थानों पर महिलाओं के साथ संवाद किया और कर रही हैं, उससे अब यह माना जा रहा है कि उनकी सोच सिर्फ यूपी तक नहीं है। उनका संदेश देशभर के लिए हैं।

पिछड़ों के हमदर्द बदरी नारायण झा का जातिवादी चेहरा बेनकाब

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*