सिपाही भर्ती का प्रश्नपत्र क्यों लीक हुआ, तेजस्वी ने बताई वजह

सिपाही भर्ती का प्रश्नपत्र क्यों लीक हुआ, तेजस्वी ने बताई वजह

रविवार को कटिहार में होमगार्ड भर्ती के लिए हो रही परीक्षा का प्रश्नपत्र लीक हो गया, विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने लीक की बताई एक वजह।

रविवार को होमगार्ड नियुक्ति के लिए परीक्षा हुई। कटिहार के एक केंद्र से एक परीक्षार्थी ने प्रश्नपत्र का फोटो खींच कर बाहर अपने दोस्त को भेज दिया। परीक्षार्थी को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया गया। लेकिन क्या गिरफ्तारी से ही मामला खत्म हो गया?

परीक्षार्थी की गिरफ्तारी के बाद भी कई सवाल अनसुलझे हैं। बड़ा सवाल यह है कि प्रश्नपत्र का फोटो बाहर जाने के बाद किस-किस जिले में यह प्रश्नपत्र पहुंचा। इससे कितने अन्य परीक्षार्थियों को गैरकानूनी ढंग से लाभ पहुंचाया गया। क्या लीक के पीछे कोई गैंग काम कर रहा था? ये सारे सवाल उचित जांच एजेंसी जब गहराई से छानबीन करेगी, तभी हल होंगे, लेकिन विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने इशारों में महत्वपूर्ण एक बात कह दी।

बिहार के 18 जांबाज पुलिसकर्मी होंगे गणतंत्र दिवस पर सम्मानित

तेजस्वी यादव ने जो आरोप लगाए हैं, उसे केवल राजनीतिक आरोप कहकर खारिज करना अनुचित होगा। उन्होंने जो आरोप लगाए हैं, उसके इस घटना में ठोस आधार हैं।

तेजस्वी यादव ने कहा कि प्रश्नपत्र लीक करने के पीछे तीन मकसद हैं। पहला मकसद है बहाली में नालंदा जिला के अभ्यर्थियों को लाभ पहुंचाना, दूसरा मकसद है एक खास जाति के अभ्यर्थियों को बहाली में मदद करना और तीसरा कारण है आरसीपी टैक्स।

मालूम हो कि कल कटिहार के उमादेवी बालिका विद्यालय में होमगार्ड बहाली के लिए लिखित परीक्षा हो रही थी। यहां परीक्षा दे रहे एक छात्र ने बाथरूम में प्रश्नपत्र ले जाकर मोबाइल से फोटो खींचा और पटना के एक छात्रावास में अपने दोस्त को भेज दिया। छात्र का नाम विक्रम कुमार मंडल है। मोबाइल जांच में पाया गया कि कई प्रश्नों के उत्तर भी उसके पास आए थे। उसे पुलिस ने गिरफ्तार करके जेल भेज दिया।

तेजस्वी ने अपने आरोप में कहा है कि एक खास जाति और जिला के लोगों को लाभ पहुंचाने के लिए ऐसा किया गया। कई स्थानीय चैनलों से मिल रही जानकारी के अनुसार विक्रम ने पटना के पटेल छात्रावास में अपने दोस्त को प्रश्नपत्र का फोटो भेजा। राजद ने एक वीडियो भी जारी किया है, जिसमें कुछ युवा आंसर शीट लेकर प्रश्न हल कर रहे हैं। अगर ये आंसर शीट इसी परीक्षा के हैं, तो इसका अर्थ है कि प्रश्नपत्र लीक होने के बाद इसका फायदा दूसरे जिले के लोगों ने भी उठाया।

इससे पहले भी कई बार विभिन्न प्रतियोगिता परीक्षा के प्रश्नपत्र लीक होने की खबरें आई हैं। देखना है कि राज्य सरकार इस मामले को गंभीरता से लेते हुए कार्रवाई करती है या नहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*