अलग मिथिला राज्य से बिहार का भला नहीं : प्रशांत किशोर

अलग मिथिला राज्य से बिहार का भला नहीं : प्रशांत किशोर

जन सुराज के संस्थापक प्रशांत किशोर ने मधुबनी में कहा कि अलग मिथिला राज्य से बिहार का भला नहीं होगा। बिहार को और खंडित करना ठीक नहीं।

नए बिहार निर्माण के संकल्प के साथ प्रदेश के जिलों में हर वर्ग के लोगों के साथ संपर्क कर रहे प्रशांत किशोर मधुबनी पहुंचे।जन सुराज के संस्थापक प्रशांत किशोर ने अलग मिथिला राज्य के संबंध में पूछे गए सवाल के उत्तर में कहा कि बिहार को और भी खंडित करना प्रदेश के हक में नहीं है। इससे बिहार का भला नहीं होगा।

दो दिवसीय दौरे पर मधुबनी पहुंचे प्रशांत किशोर ने अलग मिथिला राज्य के सवाल पर कहा- बिहार को और खंडित करने से किसी का भला नहीं होगा। पूरा बिहार ही गरीब और पिछड़ा है, चाहे वो मिशिला हो या सीमांचल हो या मगध या पूर्वांचल। सिर्फ मिथिला पिछड़ा है ये कहना ठीक नहीं होगा। मिथिला बिहार की हृदयस्थली है, बिना मिथिला के विकास के बिहार का विकास संभव नहीं है। जब तक नेतृत्व सही लोगों के हाथ में नहीं होगा तब तक छोटे या बड़े किसी भी राज्य का विकास संभव नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि बिहार से झारखंड अलग हुआ, लेकिन वहां अपेक्षित विकास नहीं हो सका।

प्रशांत किशोर ने आज जिले में कई गोष्ठियों और बैठकों में विभिन्न वर्ग के लोगों के साथ संवाद किया। लोगों के सवालों के उत्तर दिए और नए बिहार के निर्माण की अपनी रूपरेखा प्रस्तुत की। उन्होंने मधुबनी के सरिसव में आशीष और संतोष जी द्वारा आयोजित जन सुराज गोष्ठी में जन प्रतिनिधियों, और स्थानीय लोगों के साथ जन सुराज पर चर्चा की। इससे पहले उन्होंने मधुबनी में विमल जयसवाल एवं समीनातुल खान जी द्वारा आयोजित जन सुराज गोष्ठी में जन प्रतिनिधियों और स्थानीय बुद्धिजीवियों के साथ जन सुराज और उसके मुख्य उद्देश्यों पर लंबी चर्चा की। मधुबनी में प्रशांत किशोर अभी और भी गोष्ठियों-बैठकों में शिरकत करेंगे।

ADM की पिटाई से घायल अभ्यर्थी का इलाज कराएंगे तेजस्वी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*