उपचुनाव : प्रचार में राजद आगे, गांवों में पहुंचे 20 बड़े नेता

उपचुनाव : प्रचार में राजद आगे, गांवों में पहुंचे 20 बड़े नेता

बिहार में दो सीटों पर उपचुनाव के प्रचार में राजद आगे है। तेजस्वी यादव तारापुर में। पार्टी के 20 बड़े नेता जा रहे गांव-गांव। जदयू का ट्विटर हैंडल खामोश।

इस बार बिहार में दो विधानसभा क्षेत्रों में हो रहा उपचुनाव का अलग ही नजारा है। राजद इस तरह मैदान में कूदा है, जैसे उसके लिए यह उपचुनाव नहीं, आम चुनाव हो। खुद तेजस्वी यादव दो दिनों से तारापुर के गांव-गांव जा रहे हैं। कुशेश्वरस्थान और तारापुर में पार्टी के 20 बड़े नेता घर-घर संपर्क कर रहे हैं। पांच-दस लोगों के साथ बैठकर बात कर रहे हैं। इन नेताओं में विधायक, पूर्व विधायक से लेकर दो राष्ट्रीय महासचिव भी शामिल हैं।

विधायक चेतन आनंद (शिवहर) विधायक रणविजय साहू (मोरवा), विजय कुमार (शेखपुरा), विधायक सतीश कुमार(मखदुमपुर), शक्ति सिंह यादव, पूर्व विधायक और प्रवक्ता, रुबिया खातून, पूर्व प्रत्याशी भागलपुर, महिला नेता अनीता भारती और नमिता नीरज सिंह (बाढ़), अरुण कुमार यादव तारापुर के गांवों में जा रहे हैं।

कुशेश्वरस्थान में पार्टी के दो राष्ट्रीय महासचिव श्याम रजक और भोला यादव, महिला प्रकोष्ठ की अध्यक्ष और राष्ट्रीय नाई महासभा की महासचिव डॉ. उर्मिला ठाकुर, रितु जायसवाल, युवा राजद के अध्यक्ष कारी सोहैब, डॉ. गौतम कुमार, पूर्व बीडीओ छोटी-छोटी बैठकें कर रहे हैं।

राजद ने हर उस जाति के नेता को मैदान में उतारा है, जिसका वोट मिल सकता है। उन्हें अपने समाज में भेजा जा रहा है। राजद ने तारापुर के जदयू चुनाव प्रभारी को ही पार्टी में शामिल करके जदयू को बड़ा झटका दिया है।

उधर, जदयू के ट्विटर हैंडल पर जाएं, तो दोनों उपचुनावों से संबंधित कोई ट्वीट या फोटो नजर नहीं आता। जरूर जदयू नेता भी गांवों में जा रहे होंगे, पर ट्विटर पर नहीं दिखते। बिहार भाजपा के ट्विटर हैंडल पर भी उपचुनाव सं संबंधित कोई खबर नहीं है।

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा और प्रेमचंद मिश्रा कुशेस्वरस्थान में जन-संपर्क कर रहे हैं। राज्यसभा सदस्य अखिलेश प्रसाद सिंह भी बैठकें कर रहे हैं। जाले से पूर्व प्रत्याशी डॉ. मकसूर उस्मानी भी कुशेश्वरस्थान में प्रत्याशी अतिरेक कुमार के लिए प्रचार कर रहे हैं। कांग्रेस को कन्हैया कुमार से काफी उम्मीद है। उनके जल्द आने की संभावना है।

SaatRang : बांग्लादेश में अल्पसंख्यकों पर हमले के खिलाफ प्रदर्शन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*