मोदी को जन्मदिन पड़ा भारी, पक्ष में 3 लाख, विरोध में 10 लाख ट्वीट

मोदी को जन्मदिन पड़ा भारी, पक्ष में 3 लाख, विरोध में 8 लाख ट्वीट

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर भाजपा समर्थक आज बुरी तरह पिट गए। बधाई में तीन लाख और विरोध में 10लाख से ज्यादा ट्वीट हुए।

लगता है सोशल मीडिया पर भाजपा का वर्चस्व टूट रहा है। आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जन्मदिन है। इस पर जी-न्यूज और भाजपा समर्थकों ने बधाई देते हुए #HappyBdayModiji चलाया, जिस पर खबर लिखते समय 3.16 लाख ट्वीट हुए। जवाब में कांग्रेस और युवा संगठनों ने प्रधानमंत्री मोदी का विरोध करते हुए #राष्ट्रीय_बेरोजगार_दिवस चलाया, जिस पर आठ लाख ट्वीट हुए। प्रधानमंत्री का विरोध अंग्रेजी में करने के लिए
#NationalUnemploymentDay चल रहा है, जिस पर करीब ढाई लाख ट्वीट हो चुके हैं। दोनों को जोड़ दें, तो एक मिलियन (दस लाख) से ज्यादा ट्वीट हो चुके हैं।

राष्ट्रीय बेरोजगार दिवस के साथ राहुल गांधी का एक फोटो भी खूब शेयर किया जा रहा है, जिसमें अनेक युवाओं के साथ खड़े दिख रहे हैं। सभी युवा काले कपड़े पहने हैं और हाथ में तख्ती लिये हैं, जिस पर लिखा है हमें रोजगार चाहिए। नीचे राष्ट्रीय बेरोजगार दिवस भी लिखा है। कांग्रेस के युवा संगठन तथा अन्य संगठनों ने पिछले साल भी प्रधानमंत्री मोदी के जन्मदिन को बेरोजगार दिवस के रूप में मनाया था।

उधर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने जन्मदिन पर विदेश से लाए चीतों को जंगल में छोड़ा। इस पर एक कार्टून शेयर किया जा रहा है, जिसमें एक बीमार गाय कह रही है, अगले जन्म मोहे गैया के रूप में जन्म नहीं लेना, चीता के रूप में जन्म लेना चाहती हूं। मालूम हो कि लंपी बीमारी के कारण देश में लाखों गायों की मौत हो चुकी है, पर गाय को माता मानकर हिंसा करनेवाले कहीं नजर नहीं आ रहे।

प्रधानमंत्री मोदी को बधाई देनेवाले प्रधानमंत्री की मंदिर में पूजा करते या तरह-तरह की भीव-भंगिमा वाली तस्वीरें शेयर करके उन्हें मजबूत नेता के रूप में पेश कर रहे हैं, वहीं राष्ट्रीय बेरोजगार दिवस पर बेरोजगारी के आंकड़े, प्रधानमंत्री के पुराने वादे सहित अन्य तस्वीरें शेयर की जा रही है।

कांग्रेस ने आज रोजगार को लेकर प्रधानमंत्री पर सवालों की झड़ी लगा दी है। कहा- 20-24 आयु वर्ग में 42% युवा बेरोजगार है, अगर ये भयावह स्थिति नहीं होगी तो इससे भयावह क्या स्थिति होगी? कोरोना से पहले ही हमारी अर्थव्यवस्था चरमरा चुकी थी, बेरोजगारी 45 साल के सबसे उच्चतम स्तर पर पहुंच चुकी थी।

केंद्र व राज्यों में 60 लाख पद खाली पड़े हैं, उनके बारे में चर्चा नहीं होगी। दो-दो साल आर्मी व सशस्त्र बलों में भर्ती नहीं होगी, जब रोजगार मिलेगा तो सिर्फ 4 साल के लिए।

BJP : बेगूसराय कांड CBI को दो, RJD : आरोपियों का बचाव क्यों

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*