मोदी सरकार ने दबा लिया है बिहार के गरीबों का ढाई हजार करोड़ रु.

मोदी सरकार ने दबा लिया है बिहार के गरीबों का ढाई हजार करोड़ रु.

बिहार सरकार के ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार ने केंद्र की मोदी सरकार पर बड़ा आरोप लगाया। कहा केंद्र ने मनरेगा के ढाई हजार करोड़ रुपए दबा लिये हैं।

छठ से पहले बिहार सरकार के ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर बड़ा आरोप लगाया। कहा कि केंद्र सरकार ने मनरेगा के ढाई हजार करोड़ रुपए दबा लिये हैं। ये गरीबों का पैसा है। गरीब का पैसा मोदी सरकार नहीं दे रही है।

जदयू के प्रदेश कार्यालय में ‘‘कार्यकर्ताओं के दरबार में माननीय मंत्री’’ कार्यक्रम में बुधवार को ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार ने बताया कि प्रधानमंत्री आवास योजना की राशि केंद्र से मिलने में विलंब होने, कहीं बाढ़ की स्थिति रहने, पर्व- त्योहार, तो कहीं बालू की कमी के कारण विलंब होता है। हमारे पदाधिकारी-कर्मचारी लगातार लाभुकों के संपर्क में रहते हैं। केंद्र से समय पर पैसा मिलता तो टारगेट पूरा करने में आसानी होगी। उन्होंने कहा कि मनरेगा मद में लगभग ढाई हजार करोड़ रुपये केंद्र सरकार के पास बाकी हैं। हमलोग लगातार अनुरोध करते रहते हैं। द्वितीय एवं तृतीय किस्त बाकी है। मानरेगा के मितिरियाल मद में मिल पैसा अभी निकल नहीं पा रहा है।

उन्होंने कहा की छठ के अवसर पर अपने घर-परिवार के बीच आने के लिए बिहारवासियों को काफी असुविधा हो रही है। भारतीय रेलवे यात्रियों की तुलना में काफी कम विशेष ट्रेनें चला रही है। केंद्र सरकार विभिन्न स्थानों से बिहार के लिए और अधिक ट्रेनें चलाती तो देश के विभिन्न हिस्सों में कार्यरत बिहारियों को छठ जैसे महापर्व पर अपने घर- परिवार वालों के साथ रहने का अवसर मिल पाता। फिलहाल सभी स्थानों पर अफरा-तफरी का माहौल है।

समस्तीपुर की घटना के संदर्भ में पूछे गए एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि कोई भी व्यक्ति चाहे वो किसी वर्ग- मुदाय का हो, अगर कानून हाथ में लेगा तो उसके विरुद्ध राज्य सरकार सख्त कारवाई करेगी। फिलहाल मामले की जांच चल रही है, जांच के फलाफल के अनुरूप कारवाई निश्चित ही होगी। मोकामा और गोपालगंज उपचुनाव के संदर्भ में पूछे गए एक अन्य सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि कल प्रदेश अध्यक्ष गोपालगंज गए थे, आज राष्ट्रीय अध्यक्ष मोकामा गए हैं।

नीतीश-तेजस्वी में खटपट की अफवाह, जल्द मिलेगा करारा जवाब

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*