एक साथ ट्रेंड कर रहा #gotoafganistan और #मोदी_रोजगार_दो

एक साथ ट्रेंड कर रहा #gotoafganistan और #मोदीरोजगारदो

पहले सरकार विरोधियों को पाकिस्तान जाने कहा जाता था, अब स्लोगन बदल गया है। अब कह रहे #gotoafganistan वहीं जवाब में #मोदीरोजगारदो भी ट्रेंड कर रहा।

अफगानिस्तान में तालिबानियों के सत्ता पर कब्जा करते ही भारत में उसका असर दिखने लगा है। आज ट्विटर पर #gotoafganistan ट्रेंड कर रहा है। इस हैशटैग के साथ ट्वीट करनेवाले मोदी सरकार के विरोधियों को अफगानिस्तान जाने कह रहे हैं। उनके निशाने पर पेगासस जासूसी की जांच की मांग करनेवालों से लेकर किसान आंदोलन और सीएए विरोधी आंदोलन के समर्थकों तक हैं। पंकज जैन ने ट्वीट किया-#भारत मे डर लगता है कहने वालों #GoToAfganistan

भारत में धार्मिक घृणा फैलाने वाले पहले पाकिस्तान जाओ का नारा लगाते थे। अब उनका नया स्लोगन अफगानिस्तान जाओ बन गया है।

दूसरी तरफ, आज ट्विटर पर #मोदी_रोजगार_दो भी ट्रेंड कर रहा है। इसमें विभिन्न तरह की प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी कर रहे अथवा इंटरव्यू के बाद भी वर्षों से नियुक्ति नहीं होने से नाराज युवा ट्वीट कर रहे हैं। ऑल इंडिया रेलवे अप्रेंटिस एसोसिएशन, शिक्षक अभ्यर्थी सहित अन्य यूनियनें शामिल हैं।

उधर, कांग्रेस के कई नेताओं ने प्रधानमंत्री मोदी पर तंज कसते हुए कहा कि अब तो प्रेस कॉन्फ्रेंस कर लीजिए। देश जानना चाहता है कि अफगानिस्तान पर हमारा स्टैंड क्या है। #भाजपाई_हैं_तो_महंगाई_है इस हैशटैग के साथ भी कई कांग्रेस नेता रसोई गैस की कीमत में वृद्धि का सवाल उठा रहे हैं। इनमें से कई ऐसे हैं, जो यह मानकर चल रहे हैं कि अफगानिस्तान जाओ जैसे नारे देश की समस्याओं, महंगाई, बेरोजगारी से ध्यान हटाने के लिए दिए जा रहे हैं, क्योंकि अगले साल यूपी में चुनाव है।

कांग्रेस ने ट्वीट किया-मोदी सरकार का चरित्र चित्रण 4 वाक्यों में किया जा सकता है:- – दिन महंगे, बयान सस्ते – महंगाई का बोझ, हल्की सोच – महंगाई से लूट, मनमाना झूठ – महंगाई की आग, जिम्मेदारी से भाग। कांग्रेस ने अलीगढ़ का नाम बदलकर हरिगढ़ करने पर भी तंज कसते हुए कहा-मुद्दों से भटकाने के लिए बेरोजगारी, महंगाई, पेट्रोल-डीज़ल और गैस सिलेंडर के बढ़ते दामों से ध्यान भटकाया जा रहा है। अलीगढ़ आज हरिगढ़ हो गया और देखते ही देखते घरेलू गैस का सिलेंडर 1000 के पार हो गया।

तालिबान की तुलना स्वतंत्रता सेनानी से की, सांसद पर राजद्रोह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*